मज़े के लिए इस्तेमाल किया

टी.के. 15 साल की थी जब उसके साथ पहली बार बलात्कार हुआ था। वह एक बाहरी पूल में तैरने गई थी। वहाँ एक और परिवार भी मौजूद था और वह उनकी मौजूदगी में काफी सुरक्षित महसूस कर रही थी। लेकिन जब वह परिवार वापस अपने कमरे में चला गया, तो वहाँ पर सिर्फ वह और वो आदमी था और उस व्यक्ति की बुरी नीयत का उस लड़की को बिलकुल भी अंदाज़ा नहीं हुआ था।

उसकी कहानी देखें

वह उसके कमरे तक उसके पीछे पीछे गया, "बस यह निश्चित करने के लिए कि वह ठीक थी।" और फिर वह उसके कमरे के अंदर घुस गया। बाद में उसने उसे जबरदस्ती स्नान करवाया और वह सब किया और अगले दिन सुबह जब वह लोगों को मिली तो ठंडे पानी से भरे टब में पड़ी हुई थी।

जब वह 21 साल की थी तब यही दुर्घटना उसके साथ फिर से हुई। उसे लगा था कि वह अपने प्रेमी और कुछ दोस्तों के साथ फिल्म देखने बाहर जा रही है। लेकिन उसे इस बात का अंदाज़ा नहीं था कि वह उस रात उन सबका "मनोरंजन" बनने वाली थी।

टोनिया के साथ जो भी हुआ उसकी शर्मिंदगी और अपराध-बोध से उबरने में उसे कई वर्षों तक संघर्ष करना पड़ा, चाहे उसमें उसकी कोई गलती नहीं थी। उसे खुद को माफ और स्वीकार करना सीखना पड़ा और इससे उबरने की शुरुआत इस समझ के साथ शुरू हुई कि उसके साथ जो हुआ है, उससे उसका अस्तित्व या चरित्र परिभाषित नहीं होता। समय के साथ उसे यह बात समझ आ गई कि वह प्यार के लायक है। उसने जान लिया था कि दूसरों ने उसके साथ जो भी बुरा किया है उससे उसकी अहमियत कम नहीं हुई है।

यदि आप बलात्कार के हादसे से गुजरी हैं, तो यक़ीनन घाव गहरे हैं, उसकी यादें कष्टमय हैं, भावनाओं का ज्वार पीड़ादायक है। पर आप अकेली नहीं हैं। यदि आप अपनी जानकारी नीचे प्रदान करती हैं, तो हमारी टीम का एक सदस्य आपसे जल्द ही संपर्क करेगा।

यह भी देखें: "ख़ामोशी से पीड़ा झेलती": स्वाति की कहानी".

गोपनीयता के लिए लेखिका के संक्षिप्त नाम का उपयोग किया गया है।
फोटो साभार Juan Pablo Arenas